एक नए सफ़र की शूरुआत।

This is the post excerpt. … More एक नए सफ़र की शूरुआत।

Advertisements

हाशयम।

​ एक मित्र मुल्ला नसरुद्दीन🎅 को मिल गया होटल🍴 में। तो उसने कहा, यार, एक—एक पैग 🍷हो जाये तो कैसा रहे? मुल्ला 🎅ने कहा, नहीं भाई, शुक्रिया, बहुत—बहुत धन्यवाद👏! नहीं, इसलिए कि एक तो मेरे धर्म में शराब🍷 पीने की मनाही है। दूसरे जब मेरी पत्नी 👵मरने को थी, तो मैंने उसके सामने कसम खा ली है कि कभी शराब🍷 न पीऊंगा। … More हाशयम।

सच्ची बात।

​ मैंने सुना, मुल्ला नसरुद्दीन अपने मित्र से बातें कर रहा था। मुल्ला ने कहा : रात बड़े गजब का सपना देखा। सपना देखा कि पेरिस गया हूं और वहां के सब से बड़े जूए के अड्डे में खूब डटकर शराब पी है और जूआ खेल रहा हूं, लाखों रुपए जीत रहा हूं। मित्र ने कहा … More सच्ची बात।

जहाज़ का सफ़र।

​ मुल्ला नसरुद्दीन पहली बार हवाई जहाज से यात्रा कर रहा था। जहाज अभी रवाना नहीं हुआ था। मुल्ला बार—बार एअर होस्टेस को बुला—बुला कर पूछ रहा था, सब कल—पुर्जे ठीक हैं न? पेट्रोल पूरा डाल लिया है न? इंजन ठीक काम कर रहा है न? एअर होस्टेस परेशान हो गई, बार—बार.. .उसने कहा आप इतने … More जहाज़ का सफ़र।

असंभव कुछ नहीं।

​ मैंने सुना है, एक दिन मुल्ला नसरुद्दीन अपने मित्र के साथ ज्यादा देर तक गपशप में लगा रहा। रात बहुत बीत गयी। चौंककर उठा, उसने कहा बहुत देर हो गयी, अब घर जाऊं। मित्र ने कहा, आज भाभी तो बहुत इत्र-पान करेंगी। मुल्ला ने कहा तूने मुझे समझा क्या है? अगर घर जाते ही … More असंभव कुछ नहीं।

पहझड़ की प्रतिक्षा।

​ *मुल्ला नसरुद्दीन जवान था। पत्नी के साथ, एक चित्रों की प्रदर्शनी थी, वहां गया। नयी—नयी शादी थी और जगह—जगह घूमने का खयाल था। प्रदर्शनी में बड़े कीमती चित्र थे। एक चित्र के पास नसरुद्दीन रुक गया और देर तक ठहरा रहा। भूल ही गया कि पत्नी भी साथ है। चित्र एक नग्न स्‍त्री का … More पहझड़ की प्रतिक्षा।

चुनावी अधिकार

​ काश ! आ जाती तुम वोट डालने के बहाने, तेरी आँखों में हम प्यार पढ़ लेते, पहचान करने के बहाने ! -मतदान अधिकारी प्रथम 😜 . . . काश ! आ जाती तुम वोट डालने के बहाने,,, हाथ पर दिल का हाल लिख देते, स्याही लगाने के बहाने !! -मतदान अधिकारी द्वितीय 😛 . … More चुनावी अधिकार